आईआईटी कानपुर ने अभिनव मानव रहित एरियल सिस्टम के संयुक्त स्वदेशी विकास के लिए डायनामेटिक टेक्नोलॉजीज के साथ समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर

आईआईटी कानपुर ने अभिनव मानव रहित एरियल सिस्टम के संयुक्त स्वदेशी विकास के लिए डायनामेटिक टेक्नोलॉजीज के साथ समझौता ज्ञापन पर किए हस्ताक्षर

कानपुर। भारतीय रक्षा बलों के लिए विभिन्न प्रकार के अनुप्रयोगों के लिए विभिन्न प्रकार के अभिनव मानव रहित एरियल सिस्टम के संयुक्त स्वदेशी विकास के लिए डायनामैटिक्स आईआईटी कानपुर के साथ सहयोग करेगा। दोनों संगठनों ने संबंधित क्षमताओं का लाभ उठाने और यूएवी और अन्य संबंधित तकनीकों की विस्तृत श्रृंखला के निर्माण, डिजाइन, विकास, निर्माण के लिए मजबूत पारस्परिक हित की पहचान की है। संयुक्त रूप से विकसित उत्पाद वर्तमान में आयातित यूएवी को बेहतर स्वदेशी तकनीक के साथ प्रतिस्थापन करेंगे जो कम लागत पर आत्म-निर्भरता को भी सक्षम करेगा। 
भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान कानपुर ने रक्षा और देश की सुरक्षा उद्योगों से संबंधित विभिन्न क्षेत्रों में अत्याधुनिक अनुसंधान का संचालन किया है और कई तकनीकों का विकास किया है और मानव रहित हवाई वाहनों (यूएवी) के विकास से संबंधित क्षेत्रों में कई पेटेंट दायर किए हैं। इन तकनीकों का व्यवसायीकरण करने और उन्हें राष्ट्र की सेवा में लगाने के लिए, साथ ही साथ आत्मानिभारत भारत ’के सपने को साकार करने के लिए, आज आई आई टी कानपुर ने डायनामेटिक टेक्नोलॉजीज लिमिटेड के साथ साझेदारी करने का निर्णय लिया है, जो कि वैश्विक विनिर्माण प्रौद्योगिकियों में अग्रणी है, डायनामेटिक टेक्नोलॉजीज लिमिटेड  एयरबस बोइंग और बेल के लिए वैश्विक स्तर पर 1 आपूर्तिकर्ता है। कंपनी एयरोस्पेस, कृषि, हाइड्रोलिक्स और होमलैंड सिक्योरिटी के क्षेत्र में नवीनतम तकनीकों के अनुसंधान और विकास में शामिल है।
एमओयू पर आईआईटी कानपुर के निदेशक, अभय करंदीकर की उपस्थिति में आईआईटी कानपुर, अनुसंधान एवं विकास के डीन प्रो० ए० आर० हरीश ने हस्ताक्षर किए। प्रो० अभय करंदीकर ने डायनामेटिक्स के साथ इस सहयोग को एक महत्वपूर्ण विकास कहा जो यूएवी के डोमेन में आईआईटी कानपुर में चल रही अनुसंधान और विकास गतिविधियों का समर्थन करेगा और पुलिस, अर्ध-सैन्य और रक्षा बलों से लेकर विभिन्न उपयोगकर्ताओं के अधिक से अधिक अच्छे उपयोग के लिए मौजूदा समाधानों के तेजी से व्यावसायीकरण को सक्षम करेगा। । आईआईटी कानपुर का एयरोस्पेस विभाग देश में सर्वश्रेष्ठ अनुसन्धानकर्ताओं में से एक है और इस डोमेन में कई रोमांचक काम कर रहा है जो अब इस साझेदारी के माध्यम से सामने आएंगे। 
डॉ० उदंत मल्होत्रा, एमडी और सीईओ, डायनामेटिक टेक्नोलॉजीज लिमिटेड ने कहा “डायनामेटिक और आईआईटी कानपुर के बीच यह साझेदारी अद्वितीय है, क्योंकि यह ग्राहकों की आवश्यकता के लिए नए उत्पादों को विकसित करने के लिए शिक्षा और उद्योग को एक साथ लाता है। यह सहयोग आईआईटीके और डायनामेटिक में उपलब्ध अत्याधुनिक सुविधाओं और संसाधनों का उपयोग करके विकास के लिए अवधारणा को तेज करेगा।”

डायनामेटिक के बारे में


डायनामेटिक टेक्नोलॉजीज एयरोस्पेस और रक्षा, हाइड्रोलिक्स और ऑटोमोटिव व्यवसायों के लिए अत्यधिक इंजीनियर उत्पादों और समाधान बनाती है। कंपनी के पास भारत, यूके, जर्मनी और यूएसए में विनिर्माण सुविधाएं हैं और इन क्षेत्रों में अग्रणी ओईएम की वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला में है। 
डायनामेटिक की भारत और यूरोप में तीन डिजाइन प्रयोगशालाएं हैं और यह एक प्रमुख निजी अनुसंधान एवं विकास संगठन है, जिसके नाम कई अविष्कार और पेटेंट हैं। इसके अतिरिक्त, कंपनी एक मेट्रोलॉजी प्रयोगशाला, एक सामग्री विज्ञान प्रयोगशाला और एक अनुसंधान फार्म का स्वामित्व और संचालन करती है l कंपनी और उसकी सहायक कंपनियों में मैकेनिकल इंजीनियरिंग, उन्नत कंप्यूटर एडेड इंजीनियरिंग, सामग्री और धातुकर्म इंजीनियरिंग, द्रव गतिशीलता और रक्षा और एयरोस्पेस अनुसंधान में विशेषज्ञता के साथ लगभग 65 वैज्ञानिकों और 650 इंजीनियरों को नियुक्त हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

RSS
Follow by Email